रोजगारेश्वर महादेव मंदिर, जयपुर (Rojgareshwar Mahadev Temple, Jaipur)


इस मंदिर में दर्शन से व्यापार फलता—फूलता है


पिंकसिटी गुलाबी नगर जयपुर छोटी काशी के नाम से भी विख्यात है। वजह यहां के प्राचीन मंदिर और लोगों में धर्म के प्रति गहरी आस्था है। पुराने शहर में रहने वालों की सुबह की शुरूआत अपने ईष्ट के दर्शन से होती है।

यहीं वजह है कि यहां गोविंद देवजी मंदिर हो या फिर ताड़केश्वर जी, गलता धाम हो या फिर मोती डूंगरी गणेश जी, अलसुबह से ही भक्तों की आवाजाही शुरू हो जाती है। यहां छोटे मंदिरों का भी महत्व कम नहीं है। हर मोहल्ले—गली में पांच—छह मंदिर मिल ही जायेंगे। अब शहर की हृदय स्थली छोटी चौपड़ ही लीजिये, यहां कई छोटे—बड़े मंदिर है। इन्हीं में से एक है रोजगारेश्वर महादेव मंदिर।
छोटी चौपड़ पर त्रिपोलिया बाजार की तरफ सड़क के बीचों—बीच स्थित यह मंदिर पिछले दिनों काफी चर्चा में रहा। मेट्रो रेल परियोजना के चलते इस मंदिर को प्रशासन ने तुड़वा दिया था। आंदोलन हुआ और सरकार को वापस वैसा ही मंदिर बनवाना पड़ा। इस मामले में एक चर्चा यह भी है कि जिसने भी इस मंदिर के बारे में गलत सोचा, उसे उसका दुष्परिणाम भुगतना पड़ा है। विकास के नाम पर मंदिर को तुड़वा दिया लेकिन, बाद में दुष्परिणाम के भय की वजह से मानें या फिर लोगों का आंदोलन, मंदिर पुन: बनवाया गया। मंदिर उसी रूप में बनवाया गया जिसे रूप में यह पहले थे। यह मंदिर पत्थरों को जोड़कर इंटरलॉकिंग से बना है।
भगवान शिव के इस प्राचीन मंदिर के नामकरण को लेकर भी लोगों में मान्यता है कि यहां शिवजी के नियमित दर्शन मात्र से रोजगार का संकट दूर हो जाता है। व्यापार फलता—फूलता है। यही वजह है कि यहां आसपास के बाजारों में स्थिति दुकानों के मालिक अपनी दुकान खोलने से पहले इस मंदिर में आकर शीश नवाते है। यह भी मान्यता है कि नौकरी के लिये इंटरव्यू देने जाने से पहले यहां दर्शन करें तो उसे सफलता जरूर मिलती है। इसलिये रोजगारेश्वर महादेव मंदिर नामकरण हुआ।
इस मंदिर का निर्माण जयपुर की स्थापना के समय तंत्र—मंत्र के मध्येनजर कराया गया था। सड़क के बीच में होने से इसे हटाने के लिए कई बार प्रयास हुये लेकिन, भगवान के चमत्कार के आगे वे असफल रहें। मंदिर वैसे तो दिनभर खुला रहता है। श्रावण मास में यहां विशेष झांकियां सजाई जाती है। मंदिर तक पहुंचने के लिये पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन की सुविधा शहर के सभी हिस्सो से उपलब्ध है।
मन्दिर में दर्शन का समय:
मन्दिर में दर्शन सूर्य उदय से सूर्य अस्त तक किए जा सकते हैं।

Rojgareshwar Mahadev Temple, Jaipur on Google Map



कैसे पहुंचें (How To Reach)

सड़क: जयपुर 5 किमी0

रेलवे स्टेशन: जयपुर 5 किमी0
जयपुर में सभी जगह से ।



Share on Google Plus

About travel.vibrant4.com

हमारा प्रयास है कि हम भारत के हर मंदिर की जानकारी पाठकों तक पहुंचाएं। यदि आपके पास ​किसी मंदिर की जानकारी है या आप इस वेबसाइट पर विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आप हमसे vibrant4india@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

0 comments :

Post a comment

Popular Posts