राधा गोपाल की इन प्रतिमाओं ने की है विदेश यात्रा

जयपुर में प्रसिद्ध गोविन्द देवजी के मंदिर के पीछे स्थित है गंगा माता और राधा गोपालजी का प्राचीन मंदिर

गंगा माता और राधा गोपालजी का प्राचीन मंदिर, जयपुर, राजस्थान (Ganga Mata & radha gopal ji Mandir,Jaipur Rajasthan )

वैसे तो आज विदेश यात्रा करना बड़ी बात नहीं है। लेकिन, 19वीं सदी के प्रारम्भ में विदेश यात्रा गिने—चुने लोग ही किया करते थें। उन जयपुर ​रियासत के महाराजा सवाई माधोसिंह ने ​इंग्लैंड यात्रा की थी। इस यात्रा के दौरान वे अपने साथ अपने ईष्ट देव राधा—गोपाल जी को भी लेकर गए थें। वहां से लौटने पर इनका भव्य मंदिर बनवाया।

ये मंदिर है जयपुर के आराध्य देव गोविन्द देवजी के मंदिर के पीछे जयनिवास उद्यान में। यहां पर आमने—सामने दो मंदिर बने हुए है। एक गंगा मैया का और दूसरा राधा—गोपाल जी का। माधोसिंह जी ने यहां सबसे पहले 1914 में गंगा माता का मंदिर बनवाया और उसके करीब चार साल बाद राधा गोपाल जी का मंदिर बनवाया।

यहां स्थित राधा गोपाल जी की मूर्तियां वहीं है मूर्तियां जिन्हें महाराजा माधोसिंह अपने साथ इंग्लैंड लेकर गए थे। महाराजा माधोसिंह को एडवर्ड सप्तम की ताजपोशी के लिए इंग्लैंड बुलाया गया था। माधोसिंह जी वहां गए तो अपने इष्टदेव राधा गोपाल जी को भी अपने साथ लेकर गए। पच्चीस दिन की समुद्री यात्रा के बाद वे इंग्लैंड पहुंचे और इस दौरान उन्होंने नवनिर्मित ओलंपिया नामक जहाज किराए पर लिया। यात्रा से पूर्व पूरे जहाज को गंगाजल से धोकर पवित्र करवाया गया और उसके एक कक्ष में राधा गोपालजी का मंदिर बनवाया गया। यात्रा में वे चांदी के दो विशाल कलशों में गंगाजल भी लेकर गए थे। ये कलश आज भी सिटी पैलेस के सर्वतोभद्र में रखे हुए हैं। जबकि यात्रा के दौरान साथ गई मूर्तियां यहां राधा गोपालजी के मंदिर में स्थापित की गई।

इतिहासकारों की मानें तो माधोसिंह ने इन मंदिरों का निर्माण निजी आमदनी से बनवाया था। इनमें से गंगा माता के मंदिर पर 35हजार 444 रुपए खर्च होने का उल्लेख यहां एक शिलालेख पर अंकित है। कहा जाता है कि महाराजा सवाई माधोसिंह प्रात:काल उठते ही सबसे पहले गंगाजल का उपयोग करते थे और उसके बाद राधा गोपाल जी के दर्शन करते थें। राजमहल सिटी पैलेस से इन मंदिरों तक आने—जाने का अलग से रास्ता भी बना हुआ है। गोविन्द देवजी के​ नियमित आने वाले भक्त इन दोनों मंदिरों में शीश नवाने जरुर जाते हैं।

Ganga Mata & radha gopal ji Mandir,Jaipur Rajasthan on Google Map


कैसे पहुंचें (How To Reach)
गंगा गोपालजी का मंदिर प्रसिद्ध गोेविन्द देवजी के मंदिर के पीछे जयनिवास बाग में स्थित है। केन्द्रीय बस स्टैंड यहां से करीब तीन किलोमीटर और रेलवे स्टेशन करीब चार किलोमीटर है। सांगानेर हवाई अड्डा करीब 13 किलोमीटर दूर है। शहर के हर कोने से यहां तक पहुंचने के लिए टैक्सी, बस सेवा और ई—रिक्शा उपलब्ध है।

Share on Google Plus

About travel.vibrant4.com

हमारा प्रयास है कि हम भारत के हर मंदिर की जानकारी पाठकों तक पहुंचाएं। यदि आपके पास ​किसी मंदिर की जानकारी है या आप इस वेबसाइट पर विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आप हमसे vibrant4india@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

0 comments :

Post a comment

Popular Posts