पांडव युग का है यह प्राचीन शिव मंदिर



बाबा भयहरण नाथ धाम, प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश (Bhayaharan Nath Dham, Katra Gulab Singh, Pratapgarh, Uttar Pradesh)

उत्तरप्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में भगवान शिव का एक पौराणिक मंदिर है, जिसका इतिहास पांडवकाल से जुड़ा हुआ है। बकुलाही नदी किनारे स्थित इस मंदिर तक पहुंचने के​ लिए आपको कटरा गुलाबसिंह गांव में जाना होगा। यह एक विशाल स्थान पर फैला हुआ मंदिर है और यहां हनुमान, राधा—कृष्ण, संतोषी मैया आदि के भी मंदिर है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार अज्ञातवास के दौरान यह मंदिर पांडवों ने ही बनवाया था। यहां मौजूद शिवलिंग की स्थापना भीम ने की थी। लोक मान्यताओं के अनुसार इस स्थान पर बकासुर का भय था। भीम ने बकासुर का वध किया और उसके बाद यहां शिवलिंग स्थापित किया। यही वजह है कि इसे बाबा भयहरणनाथ मंदिर कहा गया।

इस मंदिर का जीर्णोद्धार संत श्री नागाबाबा जी के निर्देशन में जनसहयोग से हुआ है। यहां महाभारतकालीन घटनाओं के कई प्रमाण मिलते हैं। ऊँचडीह गांव के टीले की खु​दाई में कई प्राचीन मूर्तियां निकली हैं। मुख्य मंदिर टीले पर बना हुआ है। मंदिर मे मुख्य भाग मण्डप और गर्भगृह के चारो ओर प्रदक्षिणा पथ है। प्रांगण मे नंदी बैल विराजित हैं। धाम मे लगभग दस मंदिर है और तीन समाधियां हैं। यह स्थान नैसर्गिक सौन्दर्य से परिपूर्ण है।

मन्दिर में दर्शन का समय:
मंदिर दिनभर दर्शनार्थ खुला रहता है। यहां सावन, मलमास, अधिमास तथा महाशिवरात्रि को श्रद्धालुओं का मेला रहता है। महाशिवरात्रि पर यहां चार दिवसीय महाकाल महोत्सव का आयोजन होता है। यहां नागपंचमी पर घुघुरी उत्सव भी मनाया जाता है।

Bhayaharan Nath Dham, Katra Gulab Singh, Pratapgarh, Uttar Pradesh on Google Map


कैसे पहुंचें (How To Reach)
इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आप प्रतापगढ़ जिले से पश्चिम की ओर देरवा बाबूगंज रोड पर लगभग 28 किलोमीटर जाइए।
लखनउ का हवाई अड्डा यहां से लगभग 220 किलोमीटर दूर है।
Share on Google Plus

About travel.vibrant4.com

हमारा प्रयास है कि हम भारत के हर मंदिर की जानकारी पाठकों तक पहुंचाएं। यदि आपके पास ​किसी मंदिर की जानकारी है या आप इस वेबसाइट पर विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आप हमसे vibrant4india@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

0 comments :

Post a comment

Popular Posts