बालाजी के साथ इस मन्दिर में विराजमान है पंच गणेश

घाट के बालाजी का मन्दिर कम से कम 500 साल पुराना है। इस मन्दिर को लेकर मान्यता है कि सच्चे मन से मांगी गई मुराद को बालाजी पूरा करते है।

श्री घाट के बालाजी, जयपुर, राजस्थान (Ghat Ke Balaji Temple,Jaipur,Rajasthan)

जयपुर में गलता जी जाने वाले रास्ते में स्थित घाट के बालाजी का मन्दिर कम से कम 500 साल पुराना है। इस मन्दिर को लेकर मान्यता है कि सच्चे मन से मांगी गई मुराद को बालाजी पूरा करते है। मन्नत पूरी होने पर कई लोग यहां सवामणी भी करते है। कोई भी काम यहां ढोंक लगाने के बाद शुरू करने पर वह सफल रहता है। शायद यही वजह है कि जयपुर और उसके आसपास के इलाकों में कई परिवारों के कुल देवता घाट के बालाजी है। इन परिवारों में जांत—जडूले इसी मन्दिर में होते है। बजरंगबली की प्रतिमा के बारे में कहा जाता है कि वह स्वयं प्रकट हुई थी और बाद में आमेर के राजा ने यहां मन्दिर का निर्माण कराया था।

यहां मुख्यद्वार किसी पुरानी हवेली सरीखा बना हुआ है लेकिन, प्रवेश करने पर भव्य इमारत नजर आती है। आहते में कुछ छतरियां भी बनी हुई है। कुछ सीढ़ियां चढ़ने के बाद जगमोहन है जहां घाट के बालाजी विराजे हुए है। आदमकद इस प्रतिमा पर हर मंगलवार और शनिवार को सिन्दूर का चोला चढ़ाया जाता है। यहां पास ही हनुमान जी की छोटी मूर्ति स्थापित है। दीवारों पर भित्ती चित्र बने हुए है। हालांकि देखरेख के अभाव में एवं कुछ नए निर्माण की वजह से वे धूमिल हो रहे है। यहां मन्दिर में गणेशजी की पांच प्रतिमाएं स्थापित है। यहां शिव मन्दिर में नंदी और स्तंभ दक्षिण की द्रविड़ शैली में बने हुए है। गलता तीर्थ यहां से कुछ ही किलोमीटर की दूर पर स्थित है।

इस मन्दिर की खासियत यहां पौष माह में आयोजित होने वाला पौषबड़ा महोत्सव है। इस आयोजन में एक लाख से अधिक लोग सामूहिक प्रसादी ग्रहण करते है। पौष माह की कड़कड़ाती ठंड में गरमा—गरम पकौड़े और हलवा प्रसादी ग्रहण कर लोग अपने को धन्य मानते है। प्रसादी बनाने के लिए आयोजन की तारीख से दो—तीन दिन पहले तैयारियां शुरू हो जाती है। पौष बड़ा कार्यक्रम के साथ यहां शरद पूर्णिमा, हनुमान जयंती, रामनवमी आदि पर्व भी धूमधाम से मनाए जाते है।

Ghat Ke Balaji Temple,Jaipur,Rajasthan on Google Map


कैसे पहुंचें (How To Reach)
जयपुर शहर से मन्दिर की दूरी करीब नौ किलोमीटर है। यह एनएच 11 से गलता तीर्थ की तरफ जाने वाले रास्ते पर स्थित है। यहां तक टैक्सी या निजी साधन से पहुंचा जा सकता है। बस स्टैंड करीब 15 और रेलवे स्टेशन करीब 17 किमी. दूर है। नजदीकी एयरपोर्ट करीब 25 किमी. है। यहां आसपास सिसोदिया रानी का बाग, गलता जी, घाट की गूणी, नाहरसिंह बाबा का मन्दिर देखने योग्य है।
Share on Google Plus

About travel.vibrant4.com

हमारा प्रयास है कि हम भारत के हर मंदिर की जानकारी पाठकों तक पहुंचाएं। यदि आपके पास ​किसी मंदिर की जानकारी है या आप इस वेबसाइट पर विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आप हमसे vibrant4india@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

0 comments :

Post a comment

Popular Posts