कान्हा ने ऐसी बंसी बजाई कि पत्थर पिघल गया और बन गए उनके चरणों के निशान


चरण मन्दिर,नाहरगढ,जयपुर, राजस्थान (Charan Mandir,Nahargarh,Jaipur,Rajasthan)

जयपुर के उत्तर में सुरभ्य अरावली की पहाड़ियों में प्रसिद्ध नाहरगढ किले के पास स्थित है चरण मन्दिर। यहां भगवान श्री कृष्ण के चरणों की पूजा होती है। पौराणिक मान्यता के मुताबिक द्वापर युग में भगवान कृष्ण नन्द बाबा के साथ एक बार मथुरा से द्वारका जा रहे थे। अपनी यात्रा के दौरान वे अम्बिका वन में रूके। अम्बिका वन दरअसल तब आज के आमेर के आसपास का वनक्षेत्र कहलाता था। यहां बड़ी संख्या में कदम्ब के पेड़ थे। यहां प्रवास के दौरान एक अजगर ने नन्द बाबा का पकड़ लिया। कृष्ण जी ने नन्द बाबा को अजगर से मुक्त कराया तो अजगर असली रूप में आ गया।
अजगर वास्तव इन्द्र का पुत्र सुदर्शन था और उसे रिषी मुनियों ने अपमान करने के कारण अजगर बनने का श्राप दिया था। इस घटना के बाद कृष्ण ने यहां एक पहाड़ी पर अपनी चिरपरिचित विशेष मुद्रा में बंसी बजाई। बंसी की मधुर धुन से पत्थर भी पिघल गए। उनके दाहिने चरण का निशान यहां शिला पर बन गए। उनके पास खड़ी गाय के खुर भी यहा बन गए।
बाद में 15वीं सदी में आमेर के राजा मानसिंह को सपने में यहां कृष्ण के चरण होने का आभास हुआ। मानसिंह ने इसकी खोज की तो पहाड़ी पर ये चिन्ह नजर आए। उन्होंने यहां भव्य मन्दिर बनवाया। मन्दिर में आज भी भगवान कृष्ण और उनकी प्रिय गाय के खुर की पूजा होती है। बाद में राजा ने मन्दिर से कुछ दूरी पर एक किला भी बनवाया जो आज नाहरगढ के नाम से जाना जाता है।

मन्दिर में दर्शन का समय:
मन्दिर दिनभर खुला रहता है। लेकिन, यहां शाम के बाद जाना खतरनाक रहता है। सड़क है लेकिन, वह सही नहीं है तथा यहां वन्यजीवों की भी आवाजाही रहती है।

Charan Mandir,Jaipur,Rajasthan on Google Map


कैसे पहुंचें (How To Reach)
यहां तक पहुंचने के लिए टैक्सी अथवा निजी वाहन का उपयोग करना होगा। आमेर की पहाड़ियों से एक रास्ता मन्दिर की तरफ जाता है। इसी रास्ते पर प्रसिद्ध जयगढ और नाहरगढ के किले है।
सड़क मार्ग— केन्द्रीय बस स्टैड यहां से करीब 12​ किलोमीटर है।
रेलवे स्टेशन— रेलवे स्टेशन करीब 15 किलोमीटर दूर है।
हवाई अड्डा— नजदीकी हवाई अड्डा सांगानेर में है। जो 24—25 किलोमीटर दूर है।


Share on Google Plus

About travel.vibrant4.com

हमारा प्रयास है कि हम भारत के हर मंदिर की जानकारी पाठकों तक पहुंचाएं। यदि आपके पास ​किसी मंदिर की जानकारी है या आप इस वेबसाइट पर विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आप हमसे vibrant4india@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

0 comments :

Post a comment

Popular Posts