भगवान परशुराम का फरसा देखना है तो यहां जाएं


टांगीनाथधाम,गुमला, झारखंड (Tanginath Dham,Gumla, Jharkhand)

झारखंड के प्रमुख गुमला से करीब 75 किलोमीटर और रांची से करीब 150 किलोमीटर दूर घने जंगलों में स्थित टांगीनाथधाम अपने पौराणिक एवं ऐतिहासिक महत्व के कारण भक्तों की आस्था का केन्द्र है। यह इलाका अति नक्सल प्रभावित हैलेकिन, भक्तों का जनून इस खतरे पर भारी पड़ता नजर आता है। बड़ी संख्या में भक्त दर्शन के लिए पहुंचते है। अब झारखंडसरकार भी इस स्थान को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने का काम कर रही है।

कहा जाता है कि सीता स्वंयम्बर के दौरान भगवान राम द्धारा शिव धनुष तोड़ने पर क्रोधित हुए भगवान परशुराम का क्रोधजब शांत हुआ तो वे स्वयं को लज्जित महसूस करने लगे। वे पश्चाताप के लिए उन्होंने तपस्या करने का निर्णय किया औरजंगल में चले गए। जिस स्थान पर उन्होंने तपस्या की वह स्थान आज टांगीनाथ के रूप में जाना जाता है। तपस्या के समयउन्होंने अपना फरसा जमीन में गाड़ दिया। तब से यह फरसा यहां गड़ा हुआ है। झारखंड में फरसे को टांगी कहा जाता है।इसलिए इस स्थान का नामकरण टांगीनाथ धाम हो गया।

इस स्थान को लेकर एक किवदन्ती यह भी है कि एक बार भगवान शिव किसी बात को लेकर शनिदेव पर क्रोधित हो गए औरउन्होंने शनि का वध करने के लिए अपना त्रिशुल उन पर फेंका। शनिदेव किसी तरह इस वार से बच गए लेकिन, त्रिशुल एकचट्टान में धंस गया और यह वहीं त्रिशुल है। जमीन में धंसा लोहे के इस फरसे की आकृति कुछ—कुछ त्रिशुल से मिलती हुई है।

इसकी एक खासियत यह भी है खुले में रखे इस लोहे के त्रिशुल अथवा फरसे पर आज तक जंग नहीं लगी है। इस स्थान काऐतिहासिक महत्व भी यहां है। यहां पर खुदाई में कई प्राचीन मूर्तियां, आभूषण, बर्तन आदि मिले है। यह करीब दस हजारमीटर के दायरे में फैला हुआ है। सूर्य मन्दिर और सूर्य कुंड भी यहां का आकर्षण है।

मन्दिर में दर्शन का समय:
सुबह 4:30 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है। दिन में भोग के समय दर्शन कुछ समय के लिए बन्द होते है।

Tanginath Dham,Gumla, Jharkhand on Google Map



कैसे पहुंचें (How To Reach)
रेल्वे स्टेशन— सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन बानो रेलवे स्टेशन है जो करीब 55 किलोमीटर दूर है।
एयरपोर्ट— रांची एयरपोर्ट यहां से करीब 150 किलोमीटर दूर है।
सड़क मार्ग— गुमला कई शहरों से सड़क मार्ग से जुड़ा है। यहां से टैक्सी तथा अन्य स्थानीय बस सेवा से टांगीनाथ धामपहुंचा जा सकता है।


Share on Google Plus

About travel.vibrant4.com

हमारा प्रयास है कि हम भारत के हर मंदिर की जानकारी पाठकों तक पहुंचाएं। यदि आपके पास ​किसी मंदिर की जानकारी है या आप इस वेबसाइट पर विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आप हमसे vibrant4india@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

0 comments :

Post a comment

Popular Posts