भूतेश्वरनाथ महादेव शिवलिंग, गरियाबन्द, छत्तीसगढ़ (Bhuteshwar Mahadev Shivling in Maroda, Gariaband, Chhattisgarh)

इस शिवलिंग का आकर हर साल बढ़ जाता है

एक शिवलिंग ऐसा भी, जिसका आकार हर साल छह से आठ इंच तक बढ़ जाता है। यह अनोखा शिवलिंग छत्तीसगढ़ के गरियाबन्द जिले में स्थित है और इसके दर्शन करने के लिए हर साल हजारों भक्त यहां पहुंचते है।

गरियाबन्द जिले का मरौदा गांव के पास जंगल में यह प्राकृतिक शिवलिंग है और इसे भूतेश्वरनाथ महादेव के नाम से भी जाना जाता है। जानकारी के अनुसार, यह शिवलिंग 18 फीट से भी अधिक ऊंचा और हर साल छह से आठ इंच तक बढ़ जाता है। स्थानीय राजस्व विभाग भी इसकी ऊंचाई पर नजर रखता है।

कई साल पहले यह एक टीले जैसा था। यहां से गुजरने पर पारागांव के शोभासिंह जमींदार को शाम यहां शेर की दहाड़ और सांड की आवाज सुनाई देती थी। जबकि इस क्षेत्र में शेर नहीं था। इसे देवीय आदेश मानकर उन्होंने तथा ग्रामीणों ने टीले को शिवलिंग मानकर पूजा शुरू कर दी। इस लिए इसे भुकर्रा महादेव भी कहा जाता है। छत्तीसगढी मंे भुकर्रा का अर्थ हुकारना होता है। यह टीला भी धीरे ऊंचा होने लगा और लोगों की आस्था बढ़ती गई। सावन मास, शिवरात्री जैसे खास मौकों पर यहां मेला लगता है। सावन में यहां कावड़ यात्राएं भी आयोजित की जाती है।
मन्दिर में दर्शन का समय:
मन्दिर दिनभर खुला रहता है

Bhuteshwar Mahadev Shivling on Google Map

कैसे पहुंचें (How To Reach)

गरियाबंद से यहां तक पहुंचने के लिए बस मिल जाती है। इसके अतिरिक्त यहां तक पहुंचने के लिए निजी साधनों अथवा टैक्सी का उपयोग किया जा सकता है। गरियाबंद से ये स्थान करीब तीन किलोमीटर दूर स्थित है।

Share on Google Plus

About travel.vibrant4.com

हमारा प्रयास है कि हम भारत के हर मंदिर की जानकारी पाठकों तक पहुंचाएं। यदि आपके पास ​किसी मंदिर की जानकारी है या आप इस वेबसाइट पर विज्ञापन देना चाहते हैं, तो आप हमसे vibrant4india@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

0 comments :

Post a comment

Popular Posts